• (011) 23274463
  • Help
INR
 
Shopping Cart (0 item)
My Cart

You have no items in your shopping cart.

You're currently on:

Acharya Vallabh Aur Unka Darshan

Acharya Vallabh Aur Unka Darshan

Availability: Out of stock

Regular Price: Rs. 200

Special Price Rs. 180

10%

  • Pages: 303p
  • Year: 1998
  • Binding:  Hardbound
  • Language:  Hindi
  • Publisher:  Lokbharti Prakashan
  • ISBN 13: AVAUD20
  •  
    दर्शन संसार की सबसे बड़ी कला है; जीवन जीने की कला! इस कला का अनोखापन यह है कि कलाकार को न भाव-बिम्बों की आवश्यकता होती है, न स्वर लहरियों की; .न रंगों की अपेक्षा होती है, न चित्रफलक की । यह कला तो जीवन के फलक पर अनुभूति की तूलिका से प्रकाश का अंकन करती है । यह कला मनुष्य को भौतिकता की श्लथ भावभूमि से उठाकर चेतना के सत्य - स्फूर्त धरातल पर प्रतिष्ठित करती है, जहाँ पृथिवी आकाश बन जाती है और आकाश अक्षर । व्यक्त और अव्यक्त की उभयनिष्ठ एकता का अभिज्ञान ही भारतीय संस्कृति का मेरुदण्ड है- ऊं पूर्णमद: पूर्णमिदं पूर्णात्‌ पूर्णमुदच्छते! वैष्णव चिन्तन भारतीय संस्कृति की ऊर्ध्वमुखी कल्याणी चेतना की सबसे सुन्दर उपलब्धि है । उपनिषद-दर्शन की इस वैष्णवी मुद्रा का प्राण - तत्त्व है - भक्ति । भक्ति आत्मसमर्पित प्रेम का विज्ञान है; खण्ड का पूर्ण के प्रति, ससीम का असीम के प्रति साग्रह, सानुराग अनुधावन-' सातु परमप्रेमरूपा ' । मध्ययुग के कृष्णभक्तिपरक चिन्तन के द्वारा एक व्यापक ' कृष्ण - धर्म, की परिकल्पना हुई । श्रीकृष्ण धर्म, दर्शन और साहित्य के सर्वोच्च मूल्य तथा विश्व के परम सत्य के रूप में हृदयासीन हुए । इस महान् ' कृष्ण- धर्म ' ने लक्ष्यहीन युगचेतना को भौतिकता के पैक से निकाल कर अध्यात्म की उदात्त भावभूमि पर प्रतिष्ठित किया । श्रीकृष्ण वह पारसमणि हैं जिनके स्पर्श से जो कुछ अपवित्र और अवर था, पवित्र और श्रेष्ठ. हो गया । डी० राजलक्ष्मी वर्मा इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के संस्कृत विभाग में प्रोफेसर पद पर कार्यरत हैं । हिन्दू धर्म-दर्शन तथा वैष्णव चिन्तन से सम्बन्धित उनके कई लेख एवं शोध पत्र विभिन्न पत्र- पत्रिकाओं में प्रकाशित हैं ।

    Customer Reviews

    There are no customer reviews yet.

    Write Your Own Review

    loading...
      • Sarthak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Chahak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Funda An Imprint of Radhakrishna
      • Korak An Imprint of Radhakrishna

    Location

    Address:1-B, Netaji Subhash Marg,
    Daryaganj, New Delhi-02

    Mail to: info@rajkamalprakashan.com

    Phone: +91 11 2327 4463/2328 8769

    Fax: +91 11 2327 8144