• (011) 23274463
  • Help
INR
 
Shopping Cart (0 item)
My Cart

You have no items in your shopping cart.

You're currently on:

Manav Sharir Aur Rog Pratiraksha Tantra

Manav Sharir Aur Rog Pratiraksha Tantra

Availability: In stock

-
+

Regular Price: Rs. 60

Special Price Rs. 54

10%

  • Pages: 63P
  • Year: 2010
  • Binding:  Paperback
  • Language:  Hindi
  • Publisher:  Radhakrishna Prakashan
  • ISBN 13: 9788183613804
  •  
    मनुष्य के शरीर में भिन्न-भिन्न कार्यो के लिए अलग-अलग प्रकार की कोशिकाएँ होती हैं । एक ही प्रकार की प्त-सी कोशिकाएँ मिलकर जो संरचना बनाती हैं, उसे ऊतक कहते हैं । एक ही तरह के बहुत से ऊतक मिलकर शरीर के अंग विशेष का निर्माण करते हैं । उदाहरणार्थ-मस्तिष्क के निर्माण में तंत्रिका कोशिकाएँ भाग लेती हैं । ये पहले ऊतक बनाती हैं और ऊतक मिलकर ही मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र का निर्माण करते हैं । इसी तरह पेशीय ऊतक, शरीर की पेशियों का निर्माण करते हैं । सम्बन्धित रचना के अनुसार ऊतकों के भी कई प्रकार होते हैं, जैसे संयोजी ऊतक, जो शरीर के अंगों को परस्पर जोड़े रखता है । अस्थि ऊतक जो अस्थियाँ बनाते हैं । उपकला ऊतक त्वचा या अंगों की ऊपरी पर्त का निर्माण करता है । बहुत से ऊतक मिलकर शरीर के अंग और विभिन्न प्रणालियाँ बनाते हैं और इन अंगों और प्रणालियों से मिलकर पूरा शरीर बनता हैं । -इसी पुस्‍तक से

    Customer Reviews

    There are no customer reviews yet.

    Write Your Own Review

    Dr. Premchandra Swarnkar

    डॉ. प्रेमचन्द्र स्वर्णकार

    शिक्षा : बी.एससी., एम.बी.बी.एस., एम.डी. (पैथोलॉजी)।

    प्रथम श्रेणी चिकित्सा-विशेषज्ञ (पैथोलॉजी), हेल्थ और न्यूट्रिशन पत्रिका, मुम्बई के पूर्व विशेषज्ञ सलाहकार। विगत 38 वर्षों से मानव-स्वास्थ्य एवं चिकित्सा-विज्ञान सम्बन्धी लगभग 2000 लेख देश की प्रमुख स्वास्थ्य एवं पारिवारिक पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित।

    प्रकाशित पुस्तकें : एड्स पर हिन्दी की पहली पुस्तक 'महारोग एड्स’ के अलावा मानव स्वास्थ्य और चिकित्सा-विज्ञान पर 30 से अधिक पुस्तकें प्रकाशित। साथ ही कुछ साहित्यिक पुस्तकें—'नहीं, यह व्यंग्य नहीं’, 'मीटिंग चालू आह’ और काव्य-संकलन 'मायने बदल चुके हैं’ तथा लघु कथा-संकलन 'टुकड़ा-टुकड़ा सच’ भी प्रकाशित।

    पुरस्कार : 'डॉ. मेघनाद साहा राष्ट्रीय पुरस्कार’, 'आर्यभट्ट पुरस्कार’, 'राजीव गांधी मौलिक पुस्तक लेखन पुरस्कार’, 'राजभाषा गौरव पुरस्कार’, 'वाङ्मय पुरस्कार’, 'डॉ. शैलेन्द्र खरे स्मृति सम्मान’  आदि।

    loading...
      • Sarthak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Chahak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Funda An Imprint of Radhakrishna
      • Korak An Imprint of Radhakrishna

    Location

    Address:1-B, Netaji Subhash Marg,
    Daryaganj, New Delhi-02

    Mail to: info@rajkamalprakashan.com

    Phone: +91 11 2327 4463/2328 8769

    Fax: +91 11 2327 8144