• (011) 23274463
  • Help
INR
 
Shopping Cart (0 item)
My Cart

You have no items in your shopping cart.

You're currently on:

Sukhi Tahani Per Hariyal

Sukhi Tahani Per Hariyal

Availability: Out of stock

Regular Price: Rs. 125

Special Price Rs. 112

10%

  • Pages: 106p
  • Year: 2004
  • Binding:  Hardbound
  • Language:  Hindi
  • Publisher:  Rajkamal Prakashan
  • ISBN 10: 8126707682
  •  
    अम्बर बहराइची उर्दू और हिन्दी के दरमियान एक पुल बनाना चाहते हैं। मुबारक़ है उनका ये अक़दाम। मुझे उनकी हिन्दी और संस्कृत पसन्दी से कहीं ज़ियादा महबूब है उनका अपने गाँव की धरती से अटूट रिश्ता बनाए रखना। - ज्ञानचन्द्र जैन अम्बर बहराइची जैसे रासिख़ुल अक़ीदा मुसलमान की मिसाल एक ऐसे गुलाब की सी है जिसका बीज चाहे कहीं से भी आया हो लेकिन वो फूटा है हिन्दुस्तान की धरती की कोख से और हिन्दुस्तान ही के मौसमों का रस पीकर वो बार-आवर हुआ है। अपनी जड़ों से इस दर्जा पैवस्तगी के साथ जब कोई शाइर महाकाव्य लिखने का जतन करेगा तो वह अजम के ख़यालात में खोकर नहीं रह जाएगा। उसकी तख़लीक़ का आधार होगा संस्कृत का रस सिद्धान्त। - ख़लीक़ अंजुम अम्बर बहराइची ने रिवायती तरक़्क़ीपसन्दी और रिवायती जदीदियतपसन्द भेड़चाल से अलग-अलग अपनी हक़ीक़ी तख़लीक़ियतआफ़रीं राह निकाली है। दयारे-ग़ज़ल में भी अब उनकी तराशीदा और मुस्तहकम और हजारों बेचेहरा सदाओं में अलग राह पहचानी जाती है। बक़ौल गोपीचन्द नारंग, आज़ाद तख़लीक़ियत और आज़ाद मुकालेमा नए अहद का दस्तख़त है। उन्होंने सबसे मुख़्तलिफ़ ख़ालिस हिन्दुस्तानी अक़दारी तरजीही निज़ाम के साथ एक जागती और जगमगाती कविता-यात्रा की है जो ज्योति-रस से मुनव्वर है। - निज़ाम सिद्दीक़ी अम्बर बहराइची बेहतरीन तख़लीक़ी सलाहियतों के मालिक हैं। उनका विजदान मुतहर्रिक है, उनकी नज़्म में विजदान ने जज़्बात में तुन्दी और तेज़ी पैदा तो की है, जज़्बों के हैजान और जोश की भी पहचान होती है, लेकिन मौजश्ूअ के तक़द्दुस और वाक़ियात के जमाल की वजह से तवाजश्ुन क़ाइम रहता है। - शकीलुर्रहमान

    Customer Reviews

    There are no customer reviews yet.

    Write Your Own Review

    Amber Baharaichi

    नाम: मोहम्मद इदरीस ‘अम्बर बहराइची’। जन्म: 05 जुलाई, 1949; सिकन्दरपुर, बहराइच, (उ.प्र.) शिक्षा: एम.ए. (भूगोल), पत्रकारिता में डिप्लोमा।

    प्रादेशिक प्रशासनिक सेवा, उ.प्र. के वरिष्ठ सदस्य के रूप में कई स्थानों पर उपज़िलाधिकारी, सिटी मजिस्ट्रेट, ज़िला अधिकारी (वित्त एवं राजस्व), संयुक्त सचिव, ऊर्जा, उ.प्र. सरकार, सचिव, बरेली विकास प्राधिकरण। सम्प्रति, सचिव राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग, उ.प्र.।

    सदस्य उर्दू उपसमिति, के.के. बिड़ला फाउंडेशन, नई दिल्ली, (2001 से 2002 तक), सदस्य, एडवाइज़री बोर्ड (उर्दू), साहित्य अकादमी, दिल्ली।

    कृतियाँ: इक़बाल एक अध्ययन (हिन्दी) 1985; महाभिनिष्क्रमण (उर्दू) 1987; दूब (उर्दू) 1990 (ग़ज़लों और नज़्मों का संग्रह); सूखी टहनी पर हरियल (उर्दू) 1995 (नज़्मों का संग्रह) - इस पर साहित्य अकादमी दिल्ली का सन् 2000 का पुरस्कार मिला; लमयाती नजीरूका फ़ी नज़रिन (उर्दू) 1946 - (पैगम्बर साहब के जीवन एवं शिक्षाओं पर आधारित); संस्कृत शेरियात (उर्दू) 1999; ख़ाली सीपियों का इजि़्तराब (उर्दू) (ग़ज़लों का संग्रह-2000); संस्कृत बूतीक़ा - चंद जिहात - 2003

    पुरस्कार एवं सम्मान ः विवेकानन्द पुरस्कार (दिलीप धमेन्द्रस्मृति संस्थान रायबरेली द्वारा) 1986-इक़बाल एक अध्ययन पर; मानस संगम सम्मान, कानपुर-1987; कलाश्री सम्मान, लखनऊ-1992; इम्त्यिाज़-ए-मीर पुरस्कार-1993 (मीर अकादमी लखनऊ); 5. निराला सम्मान-1994 (डलमऊ, रायबरेली); नवा-ए-मीर पुरस्कार- 1997 (मीर अकादमी लखनऊ); उर्दू अकादमी उ.प्र. द्वारा आजीवन उपलब्धियों हेतु पुरस्कार, 1999; साहित्य अकादमी नई दिल्ली पुरस्कार-2000 (उर्दू); राग़िब पुरस्कार-2000 रायबरेली; साहित्य सारस्वत पुरस्कार-2001, हिन्दी साहित्य सम्मेलन  प्रयाग  (इलाहाबाद);  साक़िब  ग़ज़ल पुरस्कार-2001, लखनऊ।

     

    loading...
      • Sarthak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Chahak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Funda An Imprint of Radhakrishna
      • Korak An Imprint of Radhakrishna

    Location

    Address:1-B, Netaji Subhash Marg,
    Daryaganj, New Delhi-02

    Mail to: info@rajkamalprakashan.com

    Phone: +91 11 2327 4463/2328 8769

    Fax: +91 11 2327 8144