• (011) 23274463
  • Help
INR
 
Shopping Cart (0 item)
My Cart

You have no items in your shopping cart.

You're currently on:

Surkh Aur Syah

Surkh Aur Syah

Availability: In stock

-
+

Regular Price: Rs. 700

Special Price Rs. 630

10%

  • Pages: 434p
  • Year: 2003
  • Binding:  Hardbound
  • Language:  Hindi
  • Publisher:  Rajkamal Prakashan
  • ISBN 10: 8126707186
  •  
    इस उपन्यास की शुरुआत में स्तान्धाल ने दांतों की इस उक्ति को आदर्शवाक्य के रूप में दिया है, ''सच; बस तल अपने पूरे तीखेपन के साथ: और फिर पूरा उपन्यास मानो इस पुरालेख का औचित्य सिद्ध करने में लगा दिया है । किसानी धूर्तता से भरा हुआ, नायक जुलिएं सोरेल का लालची बाप, भरे-पेट और चैन-भरे जीवन की चाहत रखनेवाले मठवासी, अपने ही देश पर हमले का षड्‌यंत्र रच रहे प्रतिक्रान्तिकारी अभिजात, अपने फायदे के लिए पूणित अवसरवादी ढंग से राजनीतिक दल बदलते रहनेवाले रेनाल और वलेनो जैसे लोग-उत्तर-नेपोलियनकालीन फ्रांस में जारी घिनौने नाटक के लगभग सभी केन्द्रीय पात्र यहाँ मौजूद हैं । आम तौर पर पूरा परिदृश्य नितान्त निराशाजनक है । इसके साथ ही वेरियेरे का औद्योगीकरण, मुद्रा की बढ़ती सर्वग्रासी शक्ति, बुर्जुआ नवधनिकों द्वारा पुराने अभिजातों की नकल की भौंडी कोशिशें, बे-ल-होत में मठ के पुनर्निर्माण के पीछे निहित प्रचारवादी उद्देश्य, जानसेनाइटों और जेसुइटों के झगड़े, जेसुइटों की गुज सोसाइटी का सर्वव्यापी प्रभाव और धर्म सभा आदि के ब्योरों से स्तान्धाल ने इस उपन्यास में तत्कालीन फ्रांस की तस्वीर को व्यापक फलक पर उपस्थित किया है । जुलिएं सोरेल अपने ऐतिहासिक युग का एक विश्वसनीय प्रातिनिधिक चरित्र है जिसमें एक ही साथ, नायक और प्रतिनायक-दोनों ही के गुण निहित हैं । अपनी महत्वाकांक्षाओं के लिए और उद्देश्यपूर्ति के लिए वह नैतिकता-अनैतिकता का ख्याल किये बगैर कुछ भी करने को तैयार रहता है । यह खोखले और दम्भी-पाखण्डी बुर्जुआ समाज के ऊँचे लोगों के प्रति उसके उस सक्रिय-ऊर्जस्वी व्यक्तिवादी व्यक्तित्व की नैसर्गिक प्रतिक्रिया है जो महज सामान्य परिवार में पैदा होने के चलते एफ गुमनाम, मामूली और ढर्रे से बँधी जिन्दगी जीने के लिए तैयार नहीं है । वह उस समाज के विरुद्ध हर तरीके से संघर्ष करता है जहाँ महज कुल और सम्पत्ति के आधार पर पद, सम्मान और विशिष्टता हासिल हुआ करती है ।

    Customer Reviews

    There are no customer reviews yet.

    Write Your Own Review

    standhala

    (वास्तविक नाम - मारी-हेनरी बेयल)

    जन्म: 23 जनवरी, 1783, ग्रिनोबल, फ्रांस।

    निधन: 23 मार्च, 1842, पेरिस।

    बाल्ज़ाक की चर्चा यथार्थवाद के प्रवर्तक के रूप में की जाती है। लेकिन इतिहास का तथ्य यह है कि स्तान्धाल भी इस श्रेय का समान रूप से हकदार है। बल्कि यदि कालक्रम की : ष्टि से देखें तो यथार्थवाद का प्रवर्तक स्तान्धाल को ही माना जाना चाहिए क्योंकि उसने यथार्थवादी लेखन की स्पष्ट दिशा बाल्ज़ाक से कुछ वर्ष पहले ही अपना ली थी। यूरोपीय साहित्येतिहास के गम्भीर अध्येता ऐसा मानते भी हैं, लेकिन आम पाठकों के बीच स्तान्धाल का नाम आज भी अपेक्षतया अल्पज्ञात है।

    इसका एक कारण शायद यह भी है कि स्तान्धाल की बहुतेरी अप्रकाशित कृतियाँ उसकी मृत्यु के करीब पचास वर्ष बाद प्रकाशित हुईं। उसके जीवनकाल में कम ही आलोचकों ने उसके कृतित्व पर ध्यान दिया। अपनी अनूठी यथार्थवादी शैली और उपन्यासों की संश्लिष्ट, प्रयोगधर्मी मनोवैज्ञानिक बुनावट के चलते सिर्फ प्रबुद्ध पाठकों ने ही उसे सराहा। बाल्ज़ाक और अपने अन्य प्रमुख समकालीनों की तुलना में स्तान्धाल ने बहुत कम लिखा था और उपन्यास से अधिक उसने संगीत एवं कला-विषयक निबन्ध और यात्रा-वृत्तान्त आदि लिखे थे। शासकीय सेवा में रहते हुए सक्रिय जीवन का अधिकांश हिस्सा उसने फ्रांस से बाहर, मुख्यतः इटली में, बिताया था। 1821 से 1830 के बीच जब वह पेरिस में था भी तो सैलों में उसकी ख्याति मुख्यतः एक ‘कन्वर्सेशनलिस्ट’ और ‘पोलेमिसिस्ट’ के रूप में थी जो अपने गैरपरम्परागत विचारों एवं तार्किकता के लिए जाना जाता था। उसके सर्वोत्कृष्ट उपन्यास ‘सुर्ख और स्याह’ और ‘पारमा का चार्टरहाउस’ (The Charterhouse of Parma) जब छपे तो वह फ्रांस से बाहर था। इन सबके बावजूद, स्तान्धाल के जीवनकाल में कुछ प्रसिद्ध साहित्यिक हस्तियों ने उसकी प्रतिभा का उच्च आकलन किया जिनमें गोएठे, बाल्ज़ाक और मेरिमी प्रमुख थे। उल्लेखनीय है कि 1830 के दशक में ही पुश्किन और तोल्स्तोय भी स्तान्धाल के लेखन से परिचित हो चुके थे और उन्होंने उसकी मुक्त कण्ठ से प्रशंसा की थी।

    loading...
      • Sarthak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Chahak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Funda An Imprint of Radhakrishna
      • Korak An Imprint of Radhakrishna

    Location

    Address:1-B, Netaji Subhash Marg,
    Daryaganj, New Delhi-02

    Mail to: info@rajkamalprakashan.com

    Phone: +91 11 2327 4463/2328 8769

    Fax: +91 11 2327 8144