• (011) 23274463
  • Help
INR
 
Shopping Cart (0 item)
My Cart

You have no items in your shopping cart.

You're currently on:

Ek Chirya Algani Par Ek Mann Mein

Ek Chirya Algani Par Ek Mann Mein

Availability: Out of stock

Regular Price: Rs. 160

Special Price Rs. 144

10%

  • Pages: 139p
  • Year: 2005
  • Binding:  Hardbound
  • Language:  Hindi
  • Publisher:  Lokbharti Prakashan
  • ISBN 13: 9788180310590
  •  
    ये कविताएँ प्रेम की रिश्तेदार हैं, ये कविताएँ प्रकृति की सहेली हैं, ये कविताएँ प्रेरणा की सहचर हैं..... ये प्रेरणा हैं मनुष्य की तलाश की, ये तलाश है मनुष्य में प्रेम की.... । यह प्रेम आदिम नहीं है, यह अधुनातन है... । यह आधुनिकता प्रेम की अंतरंग है । यह मनुष्य के अतल की मिट्‌टी में पैबस्‍त प्रेम की नमी का फूलों में अनुवाद है । आज के मनुष्य के जटिल जीवन, मानसिकता और साइकिल की उतरती चेन जैसी रूटीन अपरिभाषित तकलीफों के बीच, स्पांडिलाइटिस और कर्ज जैसी रोजमर्रा की जद्दोजहद में पनपते ये प्यार के गीत हैं । ये जिजीविषा वा छांदसिक अनुवाद हैं । इन्हें अपनी भाषा में जगह दें...... । अंशु मालवीय के शब्दों में कहा जाय तो- दो अजनबी भाषाओं की तरह मिले हम ध्वनियाँ, आहटें कुछ-कुछ जानी पहचानी कोने अतरे, नोक पलक, मौन अंतस गर्भवती चुप्‍पियाँ अनजानी दो अजनबी भाषाओं की तरह मिले हम चकित, अलग-अलग ग्रहों के अपरिचित दोनों ही, दोनों किरदारों में एक साध आविष्कारक और अविष्‍कृत महक अबूझ, छुअन अकथ फिर समान संकेतों की तहें खोलता हुआ तलाश की बेचैनी के साथ हाँ! फिर आया प्यार हमारे बीच अनुबाद की तरह दो अजनबी भाषाओं की तरह मिले थे हम ।

    Customer Reviews

    There are no customer reviews yet.

    Write Your Own Review

    Yash Malviya

    यश मालवीय

     जन्म: 18 जुलाई, 1962, कानपुर

    शिक्षा: इलाहाबाद विश्वविद्यालय से स्नातक

    गतिविधियाँ: साहित्य की विभिन्न विधाओं में लेखन। प्रमुख रूप से नवगीत लेखन। कवि सम्मेलनों में भागीदारी के अतिरिक्त दूरदर्शन, आकाशवाणी के विभिन्न केन्द्रों से रचनाओं का प्रसारण, पत्रा-पत्रिपाकाओं में सतत् प्रकाशन।

    कृतियाँ: ‘कहो सदाशिव’, ‘उड़ान से पहले’, ‘एक चिड़िया अलगनी पर एक मन में’, ‘बुद्ध मुसकुराए’, ‘कुछ बोलो चिड़िया’, ‘रोशनी देती बीड़ियाँ, ‘नींद कागज की तरह’, ‘एक आग आदिम’, (सभी नवगीत संग्रह)। ‘चिंगारी के बीज’ (दोहा संग्रह), ‘इंटरनेट पर लड्डू’, ‘कृपया लाइन में आए’, ‘सर्वर डाउन है’ (सभी व्यंग्य संग्रह) ‘ताक धिनाधिन’, ‘रेनी डे’ (दोनों बालगीत संग्रह) एक नाटक ‘मैं कठपुतली अलबेली’ भारत रंग महोत्सव नई दिल्ली में मंचित।

    नवीनतम नवगीत संग्रह: ‘समय लकड़हारा’।

    पुरस्कार: दो बार उ.प्र. हिन्दी संस्थान का निराला सम्मान, संस्थान का ही सर्जना सम्मान व उमाकांत मालवीय सम्मान।

    मोदी कला भारती मुंबई का युवा कविता सम्मान। ‘परम्परा का ़तुराज सम्मान, नई दिल्ली; शकुतला सिरोठिया बाल साहित्य पुरस्कार।

    सम्पर्क: ‘रामेश्वरम्’, ए-111 मेंहदौरी कॉलोनी, इलाहाबाद-211004।

    मो.: 9839792402

    loading...
      • Sarthak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Chahak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Funda An Imprint of Radhakrishna
      • Korak An Imprint of Radhakrishna

    Location

    Address:1-B, Netaji Subhash Marg,
    Daryaganj, New Delhi-02

    Mail to: info@rajkamalprakashan.com

    Phone: +91 11 2327 4463/2328 8769

    Fax: +91 11 2327 8144