• (011) 23274463
  • Help
INR
 
Shopping Cart (0 item)
My Cart

You have no items in your shopping cart.

You're currently on:

Ek Ladki Ki Zindagi

Ek Ladki Ki Zindagi

Availability: In stock

-
+

Regular Price: Rs. 150

Special Price Rs. 135

10%

  • Pages: 183p
  • Year: 1996
  • Binding:  Paperback
  • Language:  Hindi
  • Publisher:  Rajkamal Prakashan
  • ISBN 13: 9788126700530
  •  
    दुल्हन रुखसत होकर जा चुकी थी! मँझली खाला कोनों में मुहँ छिपाकर रोटी फिर रही थी ! बड़े भैया बार-बार आँसू पीने की कोशिश कर रहे थे ! लोगों के उठने के बाद शामियाने के नीचे सोफे अब जरा बेतरबीती से पड़े थे ! कारचोबी मसनद पर जहाँ निकाह और बाद में आरसी मुसहिफ हुआ था, अब बच्चे कूद रहे थे और फूलो के हार बिखरे पड़े थे! मीरासने गाते-गाते थक चुकी थीं! शहर की 'ऊँची सोसाइटी' के अफराद मेजबानों को खुदा हाफिज करके मोटरों में सवार हो रहे थे ! बिलकिस रिश्तेदारों के हुजूम में अंदर बैठी जोर-जोर से हंस रही थी! स्याह शेरवानी और चूड़ीदार पाजामे में मलबूस उसका कजिन मेहमानों को सिगरेट पेश करते-करते उकताकर सोफे पर बैठ गया था! उसकी भाभीजान शामियाने के एक कोने में उसके दोस्तों के हुजूम में खड़ी मसल-ए-कश्मीर पर धुआँधार तकरीर कर रही थी! 'यह हमारा पटरा करवाएगी' - नादिर ने जरा परेशानी से सोचा और फिर माफ़ी मंगवाने के लिए कोठी के अंदर चला गया! वह उसी तरह कड़ी बहस में उलझ रही थी जब एक शानदार शख्स हाथ में काफी की प्याली लिए उसके करीब से गुजरा और उसे देखकर बड़ी उदासी से मुस्कराया गोया उसकी आँखों में तैरते बेपायाँ अलम को समझाता हो या समझने की कोशिश कर रहा हो!

    Customer Reviews

    There are no customer reviews yet.

    Write Your Own Review

    Qurratul Ain Haider

    जन्म : 1927, अलीगढ़ में।

    शिक्षा : लखनऊ विश्वविद्यालय से अंग्रज़ी में एम.ए.।

    पिता सज्जाद हदर यल्दरम आर माँ नज़र सज्जाद हैदर दोनों ही उर्दू के मशहूर लेखक। अंग्रेज़ी पत्रिका इम्प्रिंट और इलस्ट्रेटेड वीकली ऑफ़इंडिया में कई वर्षों तक कार्य किया।

    पहला कहानी संग्रह 'सितारों से आग’ सन् 1947 में छपा। कहानी संग्रह पतझड़ की आवाज़ पर वर्ष 1967 का साहित्य अकादमी पुरस्कार। अनुवाद के लिये सोवियत लैंड नेहरू पुरस्कार (1966), पद्मश्री (1984) ग़ालिब मोदी अवार्ड (1984) इक़बाल सम्मान (1987), ज्ञानपीठ पुरस्कार (1991), 1994 में साहित्य अकादमी का फ़ेलो बनाया गया।

    मुख्य प्रकाशित कृतियाँ : मेरे भी सनमख़ाने (1949), सफ़ीन-ए-ग़म-ए-दिल (1953), आग का दरिया (1959), कार-ए-जहाँ दराज़ (1979), चाँदनी बेगम (1990)। चार लघु उपन्यास (1990) के अतिरिक्त अनेक कृतियाँ, रिपोर्ताज़ वग़ैरह।

    loading...
      • Sarthak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Chahak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Funda An Imprint of Radhakrishna
      • Korak An Imprint of Radhakrishna

    Location

    Address:1-B, Netaji Subhash Marg,
    Daryaganj, New Delhi-02

    Mail to: info@rajkamalprakashan.com

    Phone: +91 11 2327 4463/2328 8769

    Fax: +91 11 2327 8144