• (011) 23274463
  • Help
INR
 
Shopping Cart (0 item)
My Cart

You have no items in your shopping cart.

You're currently on:

Jungle Tantram

Jungle Tantram

Availability: In stock

-
+

Regular Price: Rs. 50

Special Price Rs. 45

10%

  • Pages: 101p
  • Year: 2001
  • Binding:  Paperback
  • Language:  Hindi
  • Publisher:  Rajkamal Prakashan
  • ISBN 10: 8126702613
  • ISBN 13: 9788126702619
  •  
    सिंह बनाम राजनेता । मोर बनाम प्रशासक । नाग बनाम पूँजीपति और चूहा बनाम आम आदमी-जंगल तंत्रम के ये खास घटक हैं । इन्हीं चार जंतुओं के माध्यम से लेखक ने आज की राजनीति के तहत चलनेवाली लोकतांत्रिक शासन-प्रणाली के जनविरोधी चरित्र को उजागर किया है । सिंह मोर और नाग किस तरह अपने-अपने निहित स्वार्थों के लिए पारस्परिक गठजोड़ किए हुए हैं, फैंटेसीनुमा इस उपन्यास से यह बखूबी समझ में आ जाता है । चूहा इसे समझता भी है कि इसकी जोड़-तोड़ का असली शिकार तो मैं ही हूँ पर वह इससे उबर नहीं पाता । छोटे-छोटे प्रलोभनों, सुख-सुविधाओं की आस उसे बराबर कमजोर बनाए हुए है । संघर्ष के लिए वह खड़ा तो होता है, पर उसी की वर्गीय और परम्परागत दुर्बलताएँ उसकी पीठ का बोझ बनी हुई हैं । वास्तव में सुपरिचित कथाकार श्रवणकुमार गोस्वामी का यह बहुचर्चित उपन्यास अपनी सार्थक प्रतीकात्मकता और धारदार भाषा-शैली के आद्योपांत निर्वाह के कारण एक अनूठा प्रभाव छोड़ता है ।

    Customer Reviews

    There are no customer reviews yet.

    Write Your Own Review

    Shrawan Kumar Goswami

    Shrawan Kumar

    loading...
      • Sarthak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Chahak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Funda An Imprint of Radhakrishna
      • Korak An Imprint of Radhakrishna

    Location

    Address:1-B, Netaji Subhash Marg,
    Daryaganj, New Delhi-02

    Mail to: info@rajkamalprakashan.com

    Phone: +91 11 2327 4463/2328 8769

    Fax: +91 11 2327 8144