• (011) 23274463
  • Help
INR
 
Shopping Cart (0 item)
My Cart

You have no items in your shopping cart.

You're currently on:

Mukhauta

Mukhauta

Availability: In stock

-
+

Regular Price: Rs. 120

Special Price Rs. 108

10%

  • Pages: 119p
  • Year: 2003
  • Binding:  Hardbound
  • Language:  Hindi
  • Publisher:  Lokbharti Prakashan
  • ISBN 10: 8180310076
  •  
    ममता कालिया की नवीनतम् और चर्चित कहानियों का संकलन है ' मुखौटा । ' इन कहानियों में रचनाकार ने अपने समय और समाज को परिभाषित करने का भरपूर सृजनात्मक जोखिम उठाया है । संग्रह की हर कहानी में ममता कालिया की प्रयोगधर्मिता और संघर्ष चेतना बोलती है । शीर्षक कहानी ' मुखौटा ' में छात्र वर्ग में आरक्षण जैसे मुददे का यथार्थ तथा ' रोशनी की मार ' में दलित चेतना का उभार अपने पूरे तेवर के साथ मौजूद है । लेखिका कभी समाज के पूरे परिवेश में समकालीन सरोकार ढूँढती है तो कभी नयी स्वातंत्र्योत्‍तर नारी को उसके पूरे वैभव और संघर्ष में चित्रित करती है । इन कहानियों में अनुभव और अनुभूति की दीप्ति, दृष्टिकोण के खुलेपन के साथ मिलकर हिन्दी कहानी के उस स्वरूप को परिभाषित करती है जिसकी पाठक को हरदम तलाश रहती है । समकालीन क था लेखन में इस प्रकार के सहज, मेधावी, संवेदनशील और प्रफुल्ल व्यक्तित्व दुर्लभ हैं जो व्यापक समाज के प्रति इतनी बेबाक अभिव्यक्ति कर सकें । सम्बन्धों का खुला स्वीकार और चुनौतियों से साक्षात्कार इस सभी कहानियों का प्रमुख स्वर है । इनमें चालू मुहावरे वाला कटखना नारीवाद नहीं वरन् समग्र जीवन और परिवेश के प्रति सजग, सचेत, प्रतिबद्धता है ।

    Customer Reviews

    There are no customer reviews yet.

    Write Your Own Review

    Mamta Kaliya

    ममता कालिया

    ममता कालिया का जन्म 2 नवम्बर, 1940 को बृन्दावन में  हुआ । शिक्षा दिल्ली, मुम्बई, पुणे, नागपुर और इन्दौर में ।  कहानी, नाटक, उपन्यास, निबन्ध, कविता और पत्रकारिता  अर्थात साहित्य की लगभग सभी विधाओं में लेखन । हिन्दी  कहानी के परिदृश्य पर उनकी उपस्थिति सातवें दशक से  निरन्तर बनी हुई है । वे महात्मा गांधी अन्तरराष्ट्रीय हिन्दी  विश्वविद्यालय की त्रैमासिक पत्रिका 'हिन्दी' की सम्पादक  रही हैं ।

    दो खडॉ में अब तक को सम्पूर्ण कहानियों ममता कालिया र्का कहानियाँ शीर्षक से प्रकाशित हैं । बेघर, नरक दर नरक, प्रेम कहानी, छुटकारा, दौड़, प्रतिदिन, उसका यौवन, आपकी छोटी लड़की, दुक्खम सुक्खम चर्चित पुस्तकें हैं ।

    अंग्रेजी में ट्रिब्यूट टू पापा एंड अदर पोयम्स प्रकाशित है । कई राष्ट्रीय सम्मानों से विभूषित । हिन्दी को चर्चित रचनाकार ।

    सम्पर्क : बी 3ए /3/3, सुशान्त एक्वापोलिस, क्रॉसिंग रिपब्लिक के सामने, एन. एच. 24, गाजियाबाद- 203016

    loading...
      • Sarthak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Chahak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Funda An Imprint of Radhakrishna
      • Korak An Imprint of Radhakrishna

    Location

    Address:1-B, Netaji Subhash Marg,
    Daryaganj, New Delhi-02

    Mail to: info@rajkamalprakashan.com

    Phone: +91 11 2327 4463/2328 8769

    Fax: +91 11 2327 8144