• (011) 23274463
  • Help
INR
 
Shopping Cart (0 item)
My Cart

You have no items in your shopping cart.

You're currently on:

Nalanda Par Giddh

Nalanda Par Giddh

Availability: In stock

-
+

Regular Price: Rs. 400

Special Price Rs. 360

10%

  • Pages: 152p
  • Year: 2019, 1st Ed.
  • Binding:  Hardbound
  • Language:  Hindi
  • Publisher:  Lokbharti Prakashan
  • ISBN 13: 9789389243154
  •  
    क्षमा करो है वत्स ! तुम उस कहानी को देखो कि उसमें विधाओं की कितनी खूबसूरत मिक्सिग है । उसमें व्यक्ति चरित्र भी है, संस्मरण भी है, कहानी भी है बहुत कुछ क्रूर धटनाएँ भी हैं, अपनी क्रूरताओं का वर्णन भी है-पत्नी के प्रति और अन्य चीजों के प्रति, बच्चे के प्रति वहुत ही जबरदस्त वात्सल्य भी है । जैसा उस कहानी में हुआ है, वैसे वात्सल्य का चित्रण तो बहुत कम देखने को मिलता है । इस तरह बहुत सारी गद्य विधाओं को मिलाकर उसने सचमुच कहानी का एक नया रसायन इस शताब्दी के अन्त में क्षमा करी है वत्स मे तैयार किया है । यह कहानी एक प्रस्थान बिन्दु है । चुनौती देती है कि कहानी का ढाँचा तोड़कर केसे एक नया ढाँचा तैयार किया जा सकता है । --दूधनाथ सिंह

    Customer Reviews

    There are no customer reviews yet.

    Write Your Own Review

    Devendra

    देवेन्द्र

    जन्म : 1 जनवरी 1958, गाजीपुर जनपद के पिपनार गाँव में | ढेर सारा समय लखीमपुर में अध्यापन और अब लखनऊ में |

    सम्मान :

    1996 में प्रकाशित पहले कहानी संग्रह शहर कोतवाल की कविता पर इंदु शर्मा कथा सम्मान, यशपाल कथा सम्मान और सावित्री देवी फाउंडेशन का हिंदी कथा सम्मान |

    रचना कर्म :

    वर्ष 2016 में दूसरा कहानी संग्रह "समय-वे-समय" |

    इसी बीच समकालीन हिंदी कविता पर आलोचना की एक पुस्तक भी प्रकाशित हुई |

    संपर्क : 569 च/498, प्रेम नगर, आलमबाग, लखनऊ

    loading...
      • Sarthak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Chahak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Funda An Imprint of Radhakrishna
      • Korak An Imprint of Radhakrishna

    Location

    Address:1-B, Netaji Subhash Marg,
    Daryaganj, New Delhi-02

    Mail to: info@rajkamalprakashan.com

    Phone: +91 11 2327 4463/2328 8769

    Fax: +91 11 2327 8144