• (011) 23274463
  • Help
INR
 
Shopping Cart (0 item)
My Cart

You have no items in your shopping cart.

You're currently on:

Rajkapoor : Aadhi Haqiqat Aadha Fasaana

Rajkapoor : Aadhi Haqiqat Aadha Fasaana

Availability: In stock

-
+

Regular Price: Rs. 395

Special Price Rs. 355

10%

  • Pages: 263p
  • Year: 2007
  • Binding:  Hardbound
  • Language:  Hindi
  • Publisher:  Rajkamal Prakashan
  • ISBN 13: 9788126714056
  •  
    परदे पर राजकपूर की छवि यह सोचने को मजबूर करती है कि क्या कोई मनुष्य इतना निश्छल, कोमल और मासूम भी हो सकता है? चार दिल चार राहें का वह निष्ठावान नवयुवक जो भंगिन को व्याह लाने के लिए ढोल बजानेवाले लड़के के साथ अकेला ही निकल पड़ा है, जिंदगी की चालाक सच्चाइयों से बेखबर अनाड़ी, नंगी सच्चाई को देख लेने की सजा भुगतता जागते रहो का माटीपुत्र, ईमानदारी से जिन्दा रहने की लालसा लिये ईमान बेचने को मजबूर श्री 420 का शिक्षित बेरोजगार, तालियों की गडगडाहत और दर्शकों की किलकारियों के बीच अपनी माँ की मौत का आंसुओं की नकली पच्कारी छोड़कर मातम मनाता जोकर-ये सब राजकपूर ही है | और रेणु की माटी के आदमी की आत्मा में प्रवेश कर जानेवाला तीसरी कसम क हीरामन भी यही है | ये किरदार इसलिए अनोखे बन पड़े हैं क्योकि इनमे जिंदगी का संगीत है | दुखों और अभावों के बीच कराहती मानवता का मजाक नहीं उड़ाया गया है | तकलीफों के बयान में महानता का मुलम्मा भिनाही चढ़ाया गया है | वह आह में अपनी नायिका से कहता है-‘जी हाँ, मैं सपने बहुत देखता हूँ |’ सपने जो नई दुनिया को रचने में मदद करते हैं | सपने जो न हों तो आदमी भले ही रहे, उसकी आँखों में उजाला और होठों पर मुस्कान कभी न रहे | यही सपने राजकपूर की सबसे बड़ी मिल्कियत हैं | राजकपूर के रचनात्मक व्यक्तित्व को परत-दर-परत खोलनेवाली एक महत्त्वपूर्ण पुस्तक |

    Customer Reviews

    There are no customer reviews yet.

    Write Your Own Review

    Prahlad Agarwal

    यायावर, आवारामिजाज।

    संगीत, साहित्य और सिनेमा से गहरी आशिकी।

    पिछले तीन दशकों में बहुआयामी लेखन।

    विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में निरंतर प्रकाशन।

    शासकीय स्वशासी महाविद्यालय में प्राध्यापक।

    रचनाएँ:

    हिंदी कहानी: सातवाँ दशक

    तानाशाह (उपन्यास)

    प्यासा: चिर अतृप्त गुरुदत्त

    कवि शैलेन्द्र: जिंदगी की जीत में यकीन

    उत्ताल उमंग: सुभाष घई की फिल्मकला

    बाजार के बाजीगर: इक्कीसवीं सदी का सिनेमा

    ओ रे मांझी...: बिमलराय का सिनेमा

    जुग जुग जिए मुन्नाभाई: छवियों का मायाजाल

    ‘वसुधा’ के बहुचर्चित फिल्म विशेषांक का संपादन

    एवं कई पुस्तकों के सहयोगी लेखक।

    सम्पर्क: उज्ज्वल स्टोर्स, सुभाष पार्क, सतना (म.प्र.)

    फोन: (07672) 237454

    मो. 09424319975, 09827009452

    loading...
      • Sarthak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Chahak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Funda An Imprint of Radhakrishna
      • Korak An Imprint of Radhakrishna

    Location

    Address:1-B, Netaji Subhash Marg,
    Daryaganj, New Delhi-02

    Mail to: info@rajkamalprakashan.com

    Phone: +91 11 2327 4463/2328 8769

    Fax: +91 11 2327 8144