• (011) 23274463
  • Help
INR
 
Shopping Cart (0 item)
My Cart

You have no items in your shopping cart.

You're currently on:

Rooptilli Ki Katha

Rooptilli Ki Katha

Availability: In stock

-
+

Regular Price: Rs. 325

Special Price Rs. 293

10%

  • Pages: 335p
  • Year: 2019, 1st Ed.
  • Binding:  Paperback
  • Language:  Hindi
  • Publisher:  Lokbharti Prakashan
  • ISBN 13: 9789388211451
  •  
    प्रस्तुत उपन्यास मेघालय बसनेवाली खासी जनजाति के सांस्कृतिक जीवन पर आधारित है | इसका कालखंड वह समय है जब एक तरफ अंग्रेज उन्हें ईसाई बनाने में लगा था, तो आसपास का हिन्दू नेतृत्व उन्हें हिन्दू बनाने में | जनजाति दोनों से बचकर अपनी स्वतन्त्र पहचान बनाये रखना चाह रही थी | उससे उत्पन्न संघर्ष की गाथा इस कृति में एक बढ़िया कहानी के माध्यम से उभर कर आयी है | इसके पन्नों से गुजरते हुए लगता है कि हम उस जीवन को न केवल देख रहे हैं वरन उसे जी भी रहे हैं | वहाँ की धूप, पानी, पहाड़, नदी, वायु, धरती, पेड़, पशु अपने समस्त सौंदर्य, तेज, वेग और जीवन्तता के साथ मौजूद हैं, जिन्हें हम अपनी प्राणवायु में भरते चलते हैं | कवि होने के नाते लेखक का गद्य हमें बहुत आकृष्ट करता है |

    Customer Reviews

    There are no customer reviews yet.

    Write Your Own Review

    Shriprakash Mishra

    श्रीप्रकाश मिश्र
    श्रीप्रकाश मिश्रके अब तक पाँच कविता संग्रह : मौन पर शब्द (1986), शब्द के बारीक तारों से (2009), शब्द संभावनाएँ है (2012), मिअमाड़ (2015), कि जैसे होना खतरनाक संकेत (2017), चार उपन्यास : जहाँ बांस फूलते हैं (1996), रूपतिल्ली की कथा (2006), जो भुला दिये गये (2013), आपरेशन खुदाबख्श (2015), चार आलोचना की पुस्तकें : यह जो आ रहा है हरा (1992), यूरोप के आधुनिक कवि (2011), चुग की नब्ज (2012), रचना का सच (2013) के अलावा चिन्तन की दो पुस्तकें : सोच की दृग छाया (2017) और उत्तर आधुनिक अवधारणाएं (2018) प्रकाशित है । ग्राम जड़हा जिला कुशीनगर (उ.प्र.) के निवासी श्रीप्रकाश मिश्र एम.ए. ( राजनीति शास्त्र) और एल-एल.एम हैं इलाहाबाद विश्वविद्यालय से । विद्यार्थी जीवन में छात्र राजनीति में सक्रिय रहे । बांग्ला देश की आजादी की लडाई में मुक्तिवाहिनी के साथ रहे । केन्द्र सरकार की सेवा में रहते हुए उत्तर-पूर्व, कश्मीर, भूटान, बांग्ला देश आदि में रहे । अब इलाहाबाद में रहते हैं और कविता की अनियतकालीन पत्रिका ‘उन्नयन' का संपादन/प्रकाशन करते है । रामविलास शर्मा सम्मान के संस्थापक व पुरस्कर्ता है ।

    loading...
      • Sarthak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Chahak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Funda An Imprint of Radhakrishna
      • Korak An Imprint of Radhakrishna

    Location

    Address:1-B, Netaji Subhash Marg,
    Daryaganj, New Delhi-02

    Mail to: info@rajkamalprakashan.com

    Phone: +91 11 2327 4463/2328 8769

    Fax: +91 11 2327 8144