• (011) 23274463
  • Help
INR
 
Shopping Cart (0 item)
My Cart

You have no items in your shopping cart.

You're currently on:

Uttaradhunik Avadharnayen

Uttaradhunik Avadharnayen

Availability: In stock

-
+

Regular Price: Rs. 1,000

Special Price Rs. 900

10%

  • Pages: 418
  • Year: 2018, 1st Ed.
  • Binding:  Hardbound
  • Language:  Hindi
  • Publisher:  Lokbharti Prakashan
  • ISBN 13: 9789386863010
  •  
    अक्सर कहा जाता है कि कल्पनाशील लेखन करने वाले हिंदी के रचनाकार वस्तुगत ढंग से गंभीर लेखन नहीं कर पाते | यदि करते भी हैं तो विवाद वाले मुद्दों पर स्पष्ट स्टैण्ड नहीं लेते | इस धारणा को ख़ारिज करती है श्रीप्रकाश मिश्र की यह पुस्तक उत्तराधुनिक अवधारणाए | श्रीप्रकाश मिश्र हमारे समय के महत्त्वपूर्ण साहित्यकारों में से एक हैं | इस पुस्तक में उत्तरआधुनिकता, उत्तर साम्यवाद, उत्तर प्राच्यवाद, उत्तर उपनिवेशवाद, स्त्रीवाद, विचारधारा, निर्वचन, भूमंडलीकरण, राष्ट्रवाद, जनतंत्र, संस्कृति, न्याय, सामाजिक अभियंत्रण, लोकलुभावनवाद आदि पर अच्छी तरह से विवेचित लेख हैं, व्याख्यान हैं | वे एक स्पष्ट स्टैंड लेखर चलते हैं और लेखक की स्पष्टवादिता दर्ज करते हैं | उम्मीद है यह पुस्तक पाठकों के ज्ञान और चिंतन को समृद्ध करेगी |

    Customer Reviews

    There are no customer reviews yet.

    Write Your Own Review

    Shriprakash Mishra

    श्रीप्रकाश मिश्र
    श्रीप्रकाश मिश्रके अब तक पाँच कविता संग्रह : मौन पर शब्द (1986), शब्द के बारीक तारों से (2009), शब्द संभावनाएँ है (2012), मिअमाड़ (2015), कि जैसे होना खतरनाक संकेत (2017), चार उपन्यास : जहाँ बांस फूलते हैं (1996), रूपतिल्ली की कथा (2006), जो भुला दिये गये (2013), आपरेशन खुदाबख्श (2015), चार आलोचना की पुस्तकें : यह जो आ रहा है हरा (1992), यूरोप के आधुनिक कवि (2011), चुग की नब्ज (2012), रचना का सच (2013) के अलावा चिन्तन की दो पुस्तकें : सोच की दृग छाया (2017) और उत्तर आधुनिक अवधारणाएं (2018) प्रकाशित है । ग्राम जड़हा जिला कुशीनगर (उ.प्र.) के निवासी श्रीप्रकाश मिश्र एम.ए. ( राजनीति शास्त्र) और एल-एल.एम हैं इलाहाबाद विश्वविद्यालय से । विद्यार्थी जीवन में छात्र राजनीति में सक्रिय रहे । बांग्ला देश की आजादी की लडाई में मुक्तिवाहिनी के साथ रहे । केन्द्र सरकार की सेवा में रहते हुए उत्तर-पूर्व, कश्मीर, भूटान, बांग्ला देश आदि में रहे । अब इलाहाबाद में रहते हैं और कविता की अनियतकालीन पत्रिका ‘उन्नयन' का संपादन/प्रकाशन करते है । रामविलास शर्मा सम्मान के संस्थापक व पुरस्कर्ता है ।

    loading...
      • Sarthak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Chahak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Funda An Imprint of Radhakrishna
      • Korak An Imprint of Radhakrishna

    Location

    Address:1-B, Netaji Subhash Marg,
    Daryaganj, New Delhi-02

    Mail to: info@rajkamalprakashan.com

    Phone: +91 11 2327 4463/2328 8769

    Fax: +91 11 2327 8144