• (011) 23274463
  • Help
INR
 
Shopping Cart (0 item)
My Cart

You have no items in your shopping cart.

You're currently on:

Yaqeen Ki Ayten

Yaqeen Ki Ayten

Availability: In stock

-
+

Regular Price: Rs. 150

Special Price Rs. 135

10%

  • Pages: 115p
  • Year: 2008
  • Binding:  Hardbound
  • Language:  Hindi
  • Publisher:  Rajkamal Prakashan
  • ISBN 13: 9788126714964
  •  
    यकीन की आयतें आशुतोष दुबे की कविता में महज़ विषयों की विविधता नहीं, बल्कि करुणा, अवसाद, विडम्बना-बोध और अपराध-बोध के अलग-अलग शेड्स और विस्तार हैं और भाषा कवि के मानस को ऐसी जगह भी प्रक्षेपित करने में सफल है जो बयानों और अतिकथनों के बाहर बनती है। - विजय कुमार आशुतोष दुबे की कविताएँ एक अभयारण्य हैं।...कम लोगों की कविता ऐसी होती है जहाँ इतने अधिक स्रोतों से बेधड़क शब्द चले आएँ और ऐसे अर्थलाघव के साथ...यह काव्य-विवेक आशुतोष में है कि समझें कितना कहना है और रुकना कहाँ है! विडम्बनाओं की गहरी समझ चट-चटाक इनके एक-एक बिम्ब में वैसे खुलती है जैसे कि पानी के छींटे पड़ते ही चिटपिटिया के बीज चट से चटक जाते हैं। - अनामिका आशुतोष दुबे की काव्यानुभूति की बनावट बहुत सूक्ष्म और संश्लिष्ट है। उसमें कई बार सोच के ऐसे समुन्नत स्तर का स्पर्श है, जो हमें दैनंदिन पीड़ाओं के जंजाल से ऊपर उठाता है। कविता की यह मुक्तिकामी भूमिका है।...जैसे एक प्रशान्त और एकाग्र अन्तश्चेतना के सहारे वे चीज़ों के भीतर झाँकते हैं और उसके अनुभव को ऐसा दार्शनिक अर्थ देते हैं, जो कई बार उनसे पहले हमें अप्राप्य ही था। - पंकज चतुर्वेदी शायद ऐसी कविताओं के लिए एक निरायास- किन्तु संयमित प्रतीक्षा करनी पड़ती होगी कि विषय अंदर उतरे और अपना फॉर्म, अपना शेड, अपना टेम्परेचर, अपनी संक्षिप्तता, अपना भुरभुरापन और...और...लेकर बाहर निकले। लेकर बाहर निकले यानी इनके सहित नहीं, इन्हें ओढ़कर-पहनकर नहीं- इनसे बना हुआ होकर, इनका बना हुआ होकर बाहर निकले। और इन तमाम बातों के कई-कई टुकड़े हैं और हर टुकड़ा ‘हर रात अलग-अलग कमरों में सोता है।’ - प्रभु नारायण वर्मा

    Customer Reviews

    There are no customer reviews yet.

    Write Your Own Review

    Ashutosh Dube

    आशुतोष दुबे

    जन्म: 1963, इन्दौर।

    शिक्षा: अंग्रेजी साहित्य में पी-एच.डी. एवं पत्रकारिता और जनसंचार में स्नातक उपाधि।

    सृजन: चोर दरवाज़े से (1996) और असम्भव सारांश (2002) (कविता-संग्रह)। कुछ कविताएँ प्रमुख चयनित संग्रहों में सम्मिलित।

    कविताओं के अनुवाद कुछ भारतीय भाषाओं के अलावा अंग्रेजी और जर्मन में भी।

    सम्मान: रज़ा पुरस्कार, केदार सम्मान, अखिल भारतीय माखनलाल चतुर्वेदी पुरस्कार और वागीश्वरी पुरस्कार।

    सम्प्रति: मध्य प्रदेश शासन के उच्च शिक्षा विभाग में अंग्रेजी के सहायक प्राध्यापक। लघुपत्रिका ‘आवेग’ से भी सम्बद्धता।

    सम्पर्क: 6, जानकीनगर विस्तार, इन्दौर-452001

    फोन: (0731) 2404940   मोबाइल: 9826370577

     

    loading...
      • Sarthak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Chahak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Funda An Imprint of Radhakrishna
      • Korak An Imprint of Radhakrishna

    Location

    Address:1-B, Netaji Subhash Marg,
    Daryaganj, New Delhi-02

    Mail to: [email protected]

    Phone: +91 11 2327 4463/2328 8769

    Fax: +91 11 2327 8144