• (011) 23274463
  • Help
INR
 
Shopping Cart (0 item)
My Cart

You have no items in your shopping cart.

You're currently on:

Asawari

Asawari

Availability: Out of stock

Regular Price: Rs. 50

Special Price Rs. 45

10%

  • Pages: 126p
  • Year: 2007
  • Binding:  Paperback
  • Language:  Hindi
  • Publisher:  Lokbharti Prakashan
  • ISBN 13: 9788180311321
  •  
    बब्बन खां ने कहा था, जोशीजी, जिंदगी-भर बहुत से सच्चे आदमियों से कर्ज लेता रहा हूँ, इसलिए कि मन में घमंड पैदा न हो जाए ! अहंकार कलाकारों का सबसे बड़ा दुश्मन होता है ! कब्र में जाने के पहले सारा कर्ज चुका दिया ! सिर्फ दो आदमियों का कर्ज नहीं चुकाया ! मेरी बीबी बेचारी ने जिन्गदी-भर मेरे लिए कितनी तकलीफें उठायी ! उसके चेहरे की ओर देखने पर में काँप उठता हूँ ! और दूसरे आप हैं जोशीजी ! बीस रुपया कोई बड़ी रकम नहीं है ! लेकिन वह मेरे पास बाकी ही रहे ! वह रकमें चुकाऊंगा नहीं ! चाहे मैं जितनी ही रकम क्यों न दूँ, मगर वह आपके द्वारा दिये गए बीस रुपयों की रकम की होड़ नहीं कर सकती ! वह बाकी ही रहे !

    Customer Reviews

    There are no customer reviews yet.

    Write Your Own Review

    Arun Bagachi

    अरुण बागची

    loading...
      • Sarthak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Chahak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Funda An Imprint of Radhakrishna
      • Korak An Imprint of Radhakrishna
    Location

    Address:1-B, Netaji Subhash Marg,
    Daryaganj, New Delhi-02

    Mail to: info@rajkamalprakashan.com

    Phone: +91 11 2327 4463/2328 8769

    Fax: +91 11 2327 8144