• (011) 23274463
  • Help
INR
 
Shopping Cart (0 item)
My Cart

You have no items in your shopping cart.

You're currently on:

Vigyapan Bazar Aur Hindi

Vigyapan Bazar Aur Hindi

Availability: In stock

-
+

Regular Price: Rs. 995

Special Price Rs. 896

10%

  • Pages: 410
  • Year: 2019, 1st Ed.
  • Binding:  Hardbound
  • Language:  Hindi
  • Publisher:  Lokbharti Prakashan
  • ISBN 13: 9789388211673
  •  
    विज्ञापनों का खासा असर शुरूआती दौर में अहिस्ता-अहिस्ता किन्तु कालान्तर में धूम-धड़ाके के साथ भारतीय समाज में गोरे तक पसर चुका है । साफ शब्दों में, तमाम दर्जनों लांछनाओँ के बावजूद आज हम विज्ञापनों के जिस मायावी संसार का सामना कर रहे हैं, उससे बचना हमारे लिए मुस्रिकल हो गया है । एक और अभिव्यक्ति के अधिकांश मंच-मचान और माध्यमों से इसका अटूट रिस्ता स्थापित हो चुका है तो दूसरी ओर यह संप्रेषण की मुकम्मल, पुख्ता और आकर्षक विधा और माध्यम तो बन ही गया है । अब यह व्यावसायिक शक्ति, विक्रय कला की प्रणाली, लोकसेवा, घोषणा, उपभोक्ता के लिए सूचना और सुझाव, व्यावसायिक जरिया और क्रय शक्ति के सम्बर्धक के रूप में अपनी सार्थकता सिद्ध कर रहा है । विज्ञापनों के बिना, बिलाशक बाजार चल नहीं सकता । बाजार को यह सुसम्पन्न और लुभाना बनाता है, उसे सजाता और साधना है । बिना इसके मीडिया के सामने अस्तिव का संकट पैदा हो सकता है । इसने भाषा, संस्कृति के साथ को जरा, उसकी जीवन शैली, ढंग और उब को भी बदल दिया है ।

    Customer Reviews

    There are no customer reviews yet.

    Write Your Own Review

    Kailash Nath Pandey

    डॉ. कैलाश नाथ पाण्डेय

    डॉ. कैलाश नाथ पाण्डेय की ख्याति एक चर्चित भाषा-वैज्ञानिक के रूप में है । आप गाजीपुर जनपद की सैदपुर तहसील स्थित ग्राम-रामपुर माँझा के निवासी हैं । आपने बी.ए., स्नातकोत्तर महाविद्यालय, गाजीपुर (उत्तर प्रदेश) तथा एम.ए. केन्दीय विश्वविद्यालय सागर (मध्य प्रदेश) से उत्तीर्ण किया । लगभग चालीस वर्षों तक हिन्दी-अध्यापन के पश्चात् स्नातकोत्तर महाविद्यालय, मलिकपुरा, गाजीपुर के हिन्दी विभागाध्यक्ष पद से सेवानिवृत्त ।

    आपकी प्रमुख कृतियाँ हैं-‘भाषा विज्ञान का अनुशीलन', भाषा विज्ञान का रसायन, 'हिन्दी : कुछ नई चुनौतियाँ' , 'सन्त सुन्दरदास', ‘उर्दू : दूसरी राजभाषा', ‘प्रयोजनमूलक हिन्दी की नई भूमिका', कार्यालयीय हिन्दी, हिन्दी पत्रकारिता : संवाद और विमर्श, हिन्दी आलोचना का अन्त:पाठ, 'प्रयोजनमुलक हिन्दी की संकल्पना' आदि ।

    आप उदय नारायण तिवारी स्मृति सम्मान, पाणिनी पुरस्कार, श्यामसुन्दर दास पुरस्कार, सारस्वत सम्मान आदि से सम्मानित किये जा चुके हैं ।
    सम्पर्क : नवकापुरा, लंका, गाजीपुर, उ.प्र. ।

    loading...
      • Sarthak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Chahak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Funda An Imprint of Radhakrishna
      • Korak An Imprint of Radhakrishna
    Location

    Address:1-B, Netaji Subhash Marg,
    Daryaganj, New Delhi-02

    Mail to: info@rajkamalprakashan.com

    Phone: +91 11 2327 4463/2328 8769

    Fax: +91 11 2327 8144