• (011) 23274463
  • Help
INR
 
Shopping Cart (0 item)
My Cart

You have no items in your shopping cart.

You're currently on:

Manovigyan Ka Paribhashik Shabdkosh

Manovigyan Ka Paribhashik Shabdkosh

Availability: In stock

-
+

Regular Price: Rs. 500

Special Price Rs. 450

10%

  • Pages: 224p
  • Year: 2012, 1st Ed.
  • Binding:  Hardbound
  • Language:  Hindi
  • Publisher:  Radhakrishna Prakashan
  • ISBN 13: 9788183615402
  •  
    शिक्षा के स्तर को उन्नत करने केलिए शिक्षा के माध्यम को बदलना अनिवार्य है, अंग्रेजी के स्थान पर हिंदी अथवा मातृभाषा का उपयोग नितांत आवश्यक है । किन्तु इस कार्य में मुख्य कठिनाई मानकित पुस्तकों की है । यह पुस्तक इसी दिशा में एक प्रयास है । इसमें मनोविज्ञान के हिंदी पर्यायवाची शब्दों के साथ-साथ उनके सम्बन्ध में संक्षिप्त किन्तु समुचित परिचय भी दिया गया है । इसमें यथासंभव उन पर्यायवाची शब्दों का उपयोग किया गया है जिन्हें भारत सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त है अथवा जो बहुत प्रचलित हो चुके है । यह पुस्तक केवल छात्रों की आवश्यकताओं को ही नहीं बल्कि मनोविज्ञान और साहित्य के लेखकों की आवश्यकताओं को भी ध्यान में रखकर लिखी गई है । मनोविज्ञान का महत्त्व जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में दिनोदिन बढ़ता जा रहा है और इसका प्रभाव साहित्य पर भी बहुत पड़ा है । मनोविज्ञान की पारिभाषिक पदावली से भली-भांति परिचित न होने से प्रायः मनोवैज्ञानिक शब्दों का भ्रान्तिमय उपयोग हो जाता है । इसी दृष्टिकोण से इस पुस्तक में प्रत्येक शब्द के साथ उसकी धारणा का भी संक्षिप्त विवरण दिया गया है । इस कोष के दो भाग है-पहले भाग में अंग्रेजी के हिंदी पर्याय तथा उनकी परिभाषा और संक्षिप्त विवरण है ।दुसरे भाग में हिंदी शब्दों के अंग्रेजी पर्यायवाची शब्द हैं । हिंदी शब्द के अर्थ अंग्रेजी पर्याय की सहायता से पहले भाग से देखे जा सकते हैं ।

    Customer Reviews

    There are no customer reviews yet.

    Write Your Own Review

    Nirmala Sherjung

    निर्मला शेरजंग

    जन्म: 31 दिसम्बर, 1914, लाहौर।

    शिक्षा: स्नातकोत्तर (मनोविज्ञान, लाहौर), बी.टी. (पंजाब विश्वविद्यालय), एल.एल.बी. (दिल्ली विश्वविद्यालय)।

    अकादमिक जीवन : इंद्रप्रस्थ कॉलेज (दिल्ली विश्व- विद्यालय) में शिक्षण (1939-80)। अतिथि प्रवक्ता (इंद्रप्रस्थ कॉलेज, 1981-83); नॉन-कॉलिजिएट एजूकेशन फॉर वूमेन की इंचार्ज (1983-88)। लॉ स्कूल (दिल्ली विश्वविद्यालय) में प्रवक्ता (1945-47)।

    प्रकाशित रचनाएँ : मनोविज्ञान, बाल-विकास और उसकी समस्याएँ; सामान्य मनोविज्ञान, मनोविज्ञान का पारिभाषिक कोश।

    अनूदित : जेनरल साइकॉलाजी।

    सम्पादित : सामाजिक मनोविज्ञान, मैरिटल डिस्प्यूटस एंड काउंसलिंग की तीन जिल्दों का सम्पादन।

    अंग्रेजी से हिन्दी में अनुवाद : जरथ्रुस्त ने ये कहा-शेरजंग एवं निर्मला शेरजं; हिमाचल का शेर स्वतंत्रता सेनानी शेरजंग-निर्मला शेरजंग ।

    निधन : 27 जनवरी, 2007, दिल्ली ।

    loading...
      • Sarthak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Chahak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Funda An Imprint of Radhakrishna
      • Korak An Imprint of Radhakrishna
    Location

    Address:1-B, Netaji Subhash Marg,
    Daryaganj, New Delhi-02

    Mail to: info@rajkamalprakashan.com

    Phone: +91 11 2327 4463/2328 8769

    Fax: +91 11 2327 8144