• (011) 23274463
  • Help
INR
 
Shopping Cart (0 item)
My Cart

You have no items in your shopping cart.

You're currently on:

Aadyabimb Aur Sahityalochan

Aadyabimb Aur Sahityalochan

Availability: In stock

-
+

Regular Price: Rs. 300

Special Price Rs. 270

10%

  • Pages: 219p
  • Year: 2012
  • Binding:  Hardbound
  • Language:  Hindi
  • Publisher:  Radhakrishna Prakashan
  • ISBN 13: 9788183615846
  •  
    प्रोफेसर कृष्णमुरारि मिश्र आधुनिक हिन्दी आलोचना के प्रमुख हस्ताक्षर हैं । हिन्दी में आद्यबिम्बात्मक आलोचना के प्रवर्तन का श्रेय उन्हें प्राप्त है । साहित्यिक कृतियों की संरचनात्मक गहनताओं की व्याख्या और वस्तुनिष्ठ मूल्यांकन के लिए उन्हें विशेष ख्याति मिली है । आद्यबिम्ब और साहित्यालोचन शीर्षक उनका प्रस्तुत ग्रंथ इस आलोचना के सिद्धान्त और संप्रयोग से सम्बद्ध है । ग्रन्थ में तीन शीर्षक ग्रंथित हैं- 'आद्यबिम्ब', 'आद्यबिम्ब और साहित्यालोचन : आधार' तथा ' आद्यबिम्ब और साहित्यालोचन : स्वरूप' । 'आद्यबिम्ब' शीर्षक के अन्तर्गत आद्यबिम्ब की युगीय धारणा का सैद्धान्तिक विवेचन है । इसमें फ्रायड और युग की धारणाओं के मूलभूत अन्तर का हिन्दी में पहली बार उद्‌घाटन है । साथ ही आद्यबिम्ब की युगीय धारणा का सारभूत आख्यान है जिसमें यौगपत्य के अल्पज्ञात वैज्ञानिक सिद्धान्त की भी चर्चा है । 'आद्यबिम्ब और साहित्यालोचन : आधार' शीर्षक से मुख्यतया युग के कलाचिन्तन का विवेचन है । आद्यबिम्बात्मक आलोचना की सैद्धान्तिकी के इस विवेचन से सिद्ध है कि युग का कलाचिन्तन हमारे भारतीय साहित्य-चिन्तन के लिए विजातीय नहीं है । वह भारतीय साहित्यशास्त्र के कालसिद्ध निकषों का पोषक है । युग की कलाविषयक धारणाएँ रससिद्धान्त और ध्वनिसिद्धान्त के बहुत निकट हैं । भारतीय काव्यशास्त्र में काव्य-हेतु के रूप में प्रतिभा के जिस स्वरूप की स्थापना की गई है वह सामूहिक अचेतन की युगीय धारणा के निकट है । सर्जक के व्यक्तित्व की असाधारणता को भारतीय आचार्यो के समान युग ने भी मुक्त कंठ से स्वीकार किया है । भारतीय आचार्यों के समान युग ने भी काव्य की लोकमंगलकारिणी शक्ति पर बल दिया है । उन्होंने सर्जक, भावक और समाज के सन्दर्भ में काव्य के माध्यम से जिस आत्मोपलब्धि का उल्लेख किया है उसमें आनन्द और लोकमंगल दोनों का समावेश है । 'आद्यबिम्ब और साहित्यालोचन : स्वरूप' शीर्षक के अन्तर्गत हिन्दी की आद्यबिम्बात्मक आलोचना के स्वरूप की सम्यक् विवृत्ति है । आशा है यह ग्रन्थ भी उनके पूर्व प्रकाशित ग्रन्थों की तरह हिन्दी में समादृत होगा ।

    Customer Reviews

    There are no customer reviews yet.

    Write Your Own Review

    Krishnamurari Mishra

    डॉ– कृष्णमुरारी मिश्र
    जन्म : 1948 ई– ।
    जन्म स्थान : चंदौसी, जिला मुरादाबाद, उ–प्र– ।
    शिक्षा : दिल्ली में । 1977 में दिल्ली विश्वविद्यालय से पी–एच–डी– । 1986 में भागलपुर विश्वविद्यालय से ‘आद्यबिम्ब और साहित्यलोचन’ शीर्षक शोधप्रबंध पर डी–लिट् ।
    व्यवसाय : संप्रति रीडर, हिन्दी विभाग, अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय, अलीगढ़ ।
    प्रकाशित पुस्तकें : आद्यबिम्ब और मुक्तिबोध की कविता, आद्यबिम्ब और नयी कविता, आद्यबिम्ब और गोदान ।
    इसके अतिरिक्त अनेक शोधपत्र पत्र–पत्रिकाओं में प्रकाशित ।
    शीघ्र प्रकाश्य : मुक्तिबोध : मिथकीय साक्षात्कार ।

    loading...
      • Sarthak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Chahak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Funda An Imprint of Radhakrishna
      • Korak An Imprint of Radhakrishna
    Location

    Address:1-B, Netaji Subhash Marg,
    Daryaganj, New Delhi-02

    Mail to: info@rajkamalprakashan.com

    Phone: +91 11 2327 4463/2328 8769

    Fax: +91 11 2327 8144