• (011) 23274463
  • Help
INR
 
Shopping Cart (0 item)
My Cart

You have no items in your shopping cart.

Mahatma Gandhi : Jeewan Aur Darshan

Mahatma Gandhi : Jeewan Aur Darshan

Availability: In stock

-
+

Regular Price: Rs. 115

Special Price Rs. 103

10%

  • Pages: 187p
  • Year: 2008
  • Binding:  Paperback
  • Language:  Hindi
  • Publisher:  Lokbharti Prakashan
  • ISBN 13: 9788180312236
  •  
    'सत्याग्रह' शब्द का आविष्कार गांधीजी ने तब किया था, जब वे अफ्रीका में थे-उद्देश्य था अपनी कर्म- साधना के साथ निष्कि्रय-प्रतिरोध का भेद स्पष्ट करना । यूरोपवाले गांधी के आदोलन को 'निष्क्रिय प्रतिरोध' (अथवा अप्रतिरोध) के रूप में समझना चाहते हैं, जबकि इससे बड़ी गलती दूसरी नहीं हो सकती । निष्कियता के लिए इस अदम्य योद्धा के मन में जितनी पूणा है, उतनी संसार के किसी दूसरे व्यक्ति में नहीं होगी-ऐसे वीर 'अप्रतिरोधी' का दृष्टांत संसार में सचमुच विरल है । उनके दोलन का सार तत्व है- 'सक्रिय प्रतिरोध', जिसने अपने प्रेम, विश्वास और आत्मत्याग की तीन सम्मिलित शक्तियों के साथ 'सत्याग्रह' की संज्ञा धारण की है । कायर मानो उनकी छाया भी नहीं छूना चाहता, उसे वे देश से बाहर निकालकर रहेंगे । आलसी और अकर्मण्य की अपेक्षा वह अच्छा है, जो हिंसा से प्रेरित है । गांधी जी कहते हैं- ' 'यदि कायरता और हिंसा में से किसी एक को चुनना हो तो मैं हिंसा को ही पसंद करूँगा । दूसरे को न मारकर स्वयं ही मरने का जो धीरतापूर्ण साहस है, मैं उसी की साधना करता हूँ । लेकिन जिसमें ऐसा साहस नहीं है, वह भी भागते हुए लज्जाजनक मृत्यु का वरण न करे-मैं तो कहूँगा, बल्कि वह मरने के साथ मारने की भी कोशिश करे; क्योंकि जो इस तरह भागता है, वह अपने मन पर अन्याय करता है । वह इसलिए भागता है कि मारते- मारते मरने का साहस उसमें नहीं है । एक समूची जाति के निस्तेज होने की अपेक्षा मैं हिंसा को हजार बार अच्छा समझूँगा । भारत स्वयं ही अपने अपमान का पंगु साक्षी बनकर बैठा रहे, इसके बदले अगर हाथों में हथियार उठा लेने को तैयार हो तो इसे मैं बहुत अधिक पसंद करूँगा । '? बाद में गांधी जी ने इतना और जोड़ दिया- ' 'मैं जानता हूँ कि हिंसा की अपेक्षा अहिंसा कई गुनी अच्छी है । यह भी जानता हूँ कि दंड की अपेक्षा क्षमा अधिक शक्तिशाली है । क्षमा सैनिक की शोभा है लेकिन क्षमा तभी सार्थक है, जब शक्ति होते हुए भी दंड नहीं दिया जाता । जो कमजोर है, उसकी क्षमा बेमानी है । मैं भारत को कमजोर नहीं मानता । तीस करोड़ भारतीय एक लाख अंग्रेजों के डर से हिम्मत न हारेंगे । इसके अलावा वास्तविक शक्ति शरीर-बल में नहीं होती, होती है अदम्य मन में । अन्याय के प्रति 'भले आदमी' की तरह आत्मसमर्पण का नाम अहिंसा नहीं है- अत्याचारी की प्रबल इच्छा के विरुद्ध अहिंसा केवल आत्मिक शक्ति से टिकती है । इसी तरह केवल एक मनुष्य के लिए भी समूचे साम्राज्य का विरोध करना और उसको गिराना संभव हो सकता है । ''

    Customer Reviews

    There are no customer reviews yet.

    Write Your Own Review

    Romain Rolland

    Romain Rolland

    loading...
      • Sarthak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Chahak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Funda An Imprint of Radhakrishna
      • Korak An Imprint of Radhakrishna
    Location

    Address:1-B, Netaji Subhash Marg,
    Daryaganj, New Delhi-02

    Mail to: info@rajkamalprakashan.com

    Phone: +91 11 2327 4463/2328 8769

    Fax: +91 11 2327 8144