• (011) 23274463
  • Help
INR
 
Shopping Cart (0 item)
My Cart

You have no items in your shopping cart.

You're currently on:

Yashpal Ke Nibandh (1 To 2)

Yashpal Ke Nibandh (1 To 2)

Availability: In stock

-
+

Regular Price: Rs. 1,100

Special Price Rs. 990

10%

  • Pages: 554p
  • Year: 2009
  • Binding:  Hardbound
  • Language:  Hindi
  • Publisher:  Lokbharti Prakashan
  • ISBN 13: YKN366
  •  
    भारत की स्वाधीनता के लिए प्राणों को हथेली पर रखकर चलने वाले, चन्द्र शेखर आजाद और भगत सिंह के साथी, क्रान्तिकारी यशपाल जी का शोषण मुक्त समाज और निजी स्वामित्व के खात्‍मे पर आजीवन अटल विश्वास रहा है । इस खंड में संकलित 'गांधीवाद की शव परीक्षा', 'रामराज्य की कथा', 'मार्क्सवाद', 'देखा सोचा समझा' और 'बीबी जी कहती हैं, मेरा चेहरा रोबीला है' में उनके इन विचारों की सतर्क और सजग झलक ही नहीं भारतीय समाज के भिन्न वर्गों और जातियों की गहरी समझ तथा दुनिया में हो रहे सामाजिक-आर्थिक और वैचारिक परिवर्तनों की ध्वनि प्रतिध्वनि निरंतर सुनाई देती है । 'गांधीवाद की शव परीक्षा' में शोषण में निरीहता, अहिंसा और दरिद्र-नारायण की सेवा आदि सिद्धांतों का मूल्यांकन करते हुए कहा गया है कि 'गांधीवाद जनता की मुक्ति, सामन्तकालीन घरेलू उद्योग-धंधों और स्वामी सेवक के सम्बन्ध की पुन: स्थापना में समझता है जो इतिहास की कब में दफन हो चुकी हैं मुर्दा व्यवस्थायें और आदर्श समाज को विकास की ओर ले जाने का काम नहीं कर सकते । उनका उपयोग, उन्हें समाप्त कर देने वाले कारणों को समझने के लिए या उनकी शव-परीक्षा के लिए ही हो सकता है । ' 'रामराज्य की कथा' में गांधी जी की 'रामराज्य' की कल्पना और उसके व्यावहारिक रूप के अध्ययने के साथ ही साथ रामराज्य के समता, न्याय और अहिंसा जैसे मूल्यों के माध्यम से जनता के शोषण की व्याख्या की गयी है । मार्क्सवाद में सेंट साइमन, ओवेन आदि संत साम्यवादियों के विचारों के साथ मार्क्स के विचारों और सिद्धान्तों की व्याख्या की गयी है तथा अन्य राजनैतिक सिद्धान्तों से उसके अंतर को स्पष्ट किया गया है । 'देखा सोचा समझा' में नैनीताल, कुल्लूमनाली आदि यात्रा वर्णनों के साथ-साथ समकालीन साहित्यिक और राजनैतिक गतिविधियों का विश्लेषण भी है । 'बीबी जी कहती हैं, मेरा चेहरा रोबीला है' में व्यंगात्मक निबंधों के माध्यम से भी हिंसा अहिंसा आदि के साथ अपने समय को परिभाषित करने का प्रयत्न मार्क्सवाद की दृष्टि से किया गया है । यशपाल के इन निबन्धों में उनके युग के राजनैतिक, सामाजिक और साहित्यिक सरोकारों से सम्बद्ध तेज बहसों और विवादों की झलक मिलती है । ये निबन्ध एक सर्जक की गहरी निष्ठा और व्यावहारिक समझ से विकसित हैं । दलित, शोषित और पीड़ित के प्रति गहरे लगाव के कारण वे गांधीवाद, मार्क्सवाद आदि सब कुछ को उन कारणों के परिवर्तन की दृष्टि से आँकते हैं जो गरीबी और शोषण के कारण हैं । इन निबन्धों में ऐतिहासिकता के साथ-साथ समकालीनता भी है । इन निबन्धों से यशपाल और उनके समय को समझने में मदद मिलती है । जो लोग इन्हें गांधीवाद और मार्क्सवाद की दृष्टि से पढ़ना चाहते हैं उन्हें भी आज के संदर्भ के कारण इनकी ताकतों और कमजोरियों का पता चलेगा क्योंकि इनमें प्रस्तुतीकरण ही नहीं विश्लेषण है । इन सबमें कसौटी शोषित वर्ग की भौतिक स्थितियाँ और उसके कारणों का बना रहना या बदलना ही है ।

    Customer Reviews

    There are no customer reviews yet.

    Write Your Own Review

    Yashpal

    जन्म : 3 दिसम्बर, 1903, फिरोजपुर छावनी, पंजाब।

    शिक्षा : प्रारम्भिक शिक्षा गुरुकुल काँगड़ी, डी.ए.वी. स्कूल, लाहौर और फिर मनोहर लाल हाईस्कूल में हुई। सन् 1921 में वहीं से प्रथम श्रेणी में मैट्रिक की परीक्षा उत्तीर्ण की।

    प्रारम्भिक जीवन रोमांचक कथाओं के नायकों-सा रहा। भगत सिंह, सुखदेव, भगवती चरण और आजाद के साथ क्रान्तिकारी कार्यों में खुलकर भाग लिया। 

    सन् 1931 में  'हिन्दुस्तान समाजवादी प्रजातंत्र सेना' के सेनापति चन्द्रशेखर आजाद के मारे जाने पर सेनापति नियुक्त। 1932 में पुलिस के साथ एक मुठभेड़ में गिरफ्तार। 1938 में जेल से छूटने के बाद जीवनपर्यन्त लेखन-कार्य में संलग्न रहे।

    प्रमुख प्रकाशित कृतियाँ : झूठा सच : वतन और देश, झूठा सच : देश का भविष्य, मेरी तेरी उसकी बात, देशद्रोही, दादा कामरेड, मनुष्य के रूप, दिव्या, अमिता, बारह घंटे, अप्सरा का शाप (उपन्यास); धर्मयुद्ध, ओ भैरवी, उत्तराधिकारी, चित्र का शीर्षक, अभिशप्त, वो दुनिया, ज्ञानदान, पिंजरे की उड़ान, तर्क का तूफान, भस्मावृत चिंगारी, फूलो का कुर्ता, तुमने क्यों कहा था मैं सुन्दर हूँ, उत्तमी की माँ, खच्चर और आदमी, भूख के तीन दिन, लैम्प शेड (कहानी-संग्रह); लोहे की दीवार के दोनों ओर, राहबीती, स्वर्गोद्यान : बिना साँप (यात्रा-वृत्तान्त); मेरी जेल डायरी (डायरी); रामराज्य की कथा, गाँधीवाद की शव-परीक्षा, मार्क्सवाद; देखा, सोचा, समझा; चक्कर क्लब, बात-बात में बात, न्याय का संघर्ष, बीबी जी कहती हैं मेरा चेहरा रोबीला है, जग का मुजरा, मैं और मेरा परिवेश, यथार्थवाद और उसकी समस्याएँ, यशपाल का विप्लव (राजनीति/निबन्ध/व्यंग्य/संपादन); सिंहावलोकन (सम्पूर्ण 1-4 भाग) (संस्मरण); नशे-नशे की बात (नाटक); प्रिय पाश (पत्र)।

    पुरस्कार : देव पुरस्कार, सोवियत लैंड नेहरू पुरस्कार, मंगला प्रसाद पारितोषिक, पद्मभूषण, साहित्य अकादमी पुरस्कार।

    निधन : 26 दिसम्बर, 1976

    loading...
      • Sarthak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Chahak An Imprint of Rajkamal Prakshan
      • Funda An Imprint of Radhakrishna
      • Korak An Imprint of Radhakrishna
    Location

    Address:1-B, Netaji Subhash Marg,
    Daryaganj, New Delhi-02

    Mail to: info@rajkamalprakashan.com

    Phone: +91 11 2327 4463/2328 8769

    Fax: +91 11 2327 8144